Tally learn by read

Tally in Hindi, Tally ki complete Course is blog me. Tally Erp9, Tally Complete Course in Hindi With Example, Tally GST, Now you can learn by reading Tally Erp9, Tally Course with example, Tally Online free learn,

Types of accounting in tally in hindi एकाउंट्स के प्रकार इन हिंदी इन टैली

Types of accounting in tally in hindi एकाउंट्स के प्रकार इन हिंदी इन टैली 

खाते (Account)

          खाते से आशय (Meaning of Account)
          खातों का वर्गीकरण (Classification of Account)
          खातों को लिखने के नियम (Rules of Accounting)

खाते से आशय (Meaning of Account) किसी व्यक्ति विशेष, लाभ-हानि, आय , वस्तु, संपत्ति लेन - देन आदि का संछिप्त में विवरण करना एकाउंटिंग (Accounting ) कहलाता है। यही एकाउंटिंग को अब  टैली में एंट्री करते है।     

एकाउंट्स के   प्रकार  (Type of Accountsतीन प्रकार के होते हैं। 

  • रियल एकाउंट्स  (REAL ACCOUNTS)
  • पर्सनल एकाउंट्स  ( PERSONAL ACCOUNTS)
  • नॉमिनल एकाउंट्स  (NOMINAL ACCOUNTS)

रियल एकाउंट्स  (REAL ACCOUNTS)

वास्तविक खाते संपत्तियों और परिसंपत्तियों से संबंधित खाते हैं जो व्यवसाय की चिंता के स्वामित्व में हैं। वास्तविक खातों में उदाहरण के वास्तविक खाते  लिए मूर्त और अमूर्त खाते शामिल है 

  •        1)          भवन ( building )
  •        2)          जमीन (land)
  •        3)       नकद ( cash)
  •        4)       फर्नीचर( furniture)
  •        5)        ख्याति  (अमूर्त) ( goodwill)

पर्सनल एकाउंट्स  ( PERSONAL ACCOUNTS)

व्यक्तिगत खाते वे खाते हैं जो व्यक्ति से संबंधित हैं। व्यक्तिगत खातों में निम्नलिखित शामिल हैं:

  1.       सुप्प्लिएर्स( suppliers)
  2.       ग्राहक ( customers)
  3.      ऋणदाता (lenders)

नॉमिनल एकाउंट्स  (NOMINAL ACCOUNTS)

नॉमिनल  खाते वे खाते हैं जो आय और व्यवसाय की चिंता करते हैं: नॉमिनल  खातों के उदाहरण हैं

  • 1)      बिजली खर्च ( electricity expenses )
  • 2)      छूट मिली( discounts received )
  • 3)      खरीदी ( purchase)
  • 4)      बिक्री ( sales)

टैली सॉफ्टवेयर में खातों को चार समूहों में विभाजित किया जाता है। The accounts are divided into four groups in Tally Software)

  • 1) संपत्ति( assets)
  • 2) दायित्व ( liabilities )
  • 3) पूंजी Capital)
  • 4) आय ( income) & खर्च ( expenses )

 

Rules of accounting

अगर आपको टैली में एंट्री पास करना है तो आपको एकाउंट्स के गोल्डन रूल्स के बारे में पता होना बहुत ही जरुरी है अगर आपको गोल्डन रूल्स मे कोई परेशानी होती है तो आप मोर्डन एप्रोच रुल से भी असानी से समझ सकते है आपको दोनो रूल्स मे से कोई भी एक रूल आना ही चाहिए। एकाउंटिंग के लिए ये रूल ही नीव है।  

1 Golden rules of accounts
2 Modern rules of accounts

                                 Golden Rules of accounts

                               Real accounts               Personal accounts            Nominal accounts
Debit       What comes in                       The Receiver                       Expenses & losses
Credit      What goes out                        The Giver                            Incomes & Gains

 

संदीप कुमार 90000 नगद में निवेश करते हैं।  संदीप कुमार के नाम ledger Creation होगा  और उसे हम Capital account के अंदर डालेंगे और 90000 हो गया कॅश अकाउंट। 

एंट्री होगा                                                                                                                                                                                                    Debit                       Credit
Sandeep kumar                                                                                   90000
Cash                                                                     90000
 

                                      Modern rules of accounting

                    Assets    Liabilities         Capital          Income        Expenses
                       Debit Bal.         Credit Bal.                      Credit Bal.              Credit Bal.             Debit Bal.

            Increase                   Dr.                           Cr.                              Cr.                            Cr.                              Dr.

   Decrease                  Cr.                             Dr.                            Dr.                             Dr.                             Cr.

   

Modern rule of accounting
Modern rule of accounting

मॉडर्न रूल्स में उसे 5 भागों में बांटा गया है।      Assets, Liabilities, Capital, Income, Expenses 

अब इनक्रीस(Increase) और डिक्रीज(Decrease)  का क्या मतलब है इनक्रीस का मतलब है बढ़ना और डिक्रीज का मतलब है घटना जैसे हमारी एसेट्स हो गई पैसा अगर इनक्रीस हुई तो (Dr. Bal.) बैलेंस होगा और डिक्रीज हुई तो (Cr. Bal.) बैलेंस होगा।

Tally Example in hindi 

अब हम इसे एक उदाहरण के माध्यम से समझते है   5000 के लिए आपने एक घड़ी बेचा। तो कॅश आपका एसेट्स(Assets) होगा और आपका कॅश(Cash) बढ़(Increase) रहा है मतलब एसेट्स(Assets) भी बढ़ रहा है तो एसेट्स(Assets) Dr. Bal बैलेंस होगा।  अब घड़ी आपने सेल(Sale) किया मतलब घड़ी से आपकी इनकम(Income) आई तो इनकम(Income) भी इनक्रीस(increase) हुई तो ये हो जाएगी Cr. Balance बैलेंस.

 

  एंट्री होगा                                                                    

                                               Debit                       Credit
          Cash A/C                      5000                       
         Sales A/C                                                      5000


Payment Voucher in tally in hindi पेमेंट वाउचर इन टैली हिंदी में